जनेऊ रोग के लक्षण Janeu Rog ke Lakshan

जनेऊ रोग के लक्षण Janeu Rog ke Lakshan

मल-मूत्र विसर्जन के पूर्व जनेऊ को कानों पर पहना जाता है लेकिन इससे कभी-कभी इसे पहनने के कारण फुंसिया हो जाती है और जलन होने लगती है। यह फुंसिया 2-4 दाने के रूप में निकलती है जो बाद में फैलकर बीमारी का रूप ले लेती है और इसे जनेऊ या हर्पीस रोग कहते हैं।

जनेऊ रोग के लक्षण Janeu Rog ke Lakshan
जनेऊ रोग के लक्षण

जनेऊ क्या होता हैं

जनेऊ मूलरूप या मूत्र विसर्जन से पहले कानों पर पहनी जाती है, मतलब इसे कानों पर कस कर दो बार लपेटना होता है। इससे पेट से संबंधित दोनों नसों पर दबाव पड़ता है और इसके बाद आंतो पर दबाव डालने से मल- मूत्र का मार्ग पूरा खुल जाता है।

इस प्रक्रिया से मल विसर्जन आसानी हो जाता है, हालांकि मल विसर्जन के दौरान कान की नस के पास कुछ द्रव्य पदार्थ निकलता है, जिसे पानी से हाथ व मूंह के साथ धोना है। यह प्रक्रिया कब्ज, एसीडिटी, मूत्रन्द्रीय रोग, हृदय रोग, रक्तचाप और पेट रोग आदि सहित अन्य संक्रामक रोगों से बचाती है।

जनेऊ को पहनने वाले व्यक्ति को कुछ नियमों का पालन भी करना पड़ता है, जैसे मल विसर्जन के बाद जनेऊ को बिल्कुल उतार नही सकते है और मल विसर्जन के तुरंत बाद आपको हाथ, पैर व मुंह धोकर कुल्ला करना आवश्यक है।

इस सफाई से व्यक्ति मुंह व पेट कृमियों और जीवाणुओं से बचे रहते हैं। इसके अलावा दांए कान पर जनेऊ को लपेटने से शुक्राणुओं की की रक्षा होती है और बुरे स्वप्न से भी छुटकारा मिलता है।

जनेऊ रोग के लक्षण

  • जनेऊ पहनने से कभी-कभी फुंसिया होती है, जो दो-चार दानों के रूप में निकलती हैं।
  • फुंसियों के स्थान पर जलन पैदा होने लगती है और संक्रमण भी बढ़ने लगता है।
  • संक्रमण के बढ़ने के साथ तेज दर्द और बुखार भी होता है।
  • जनेऊ को पहनने वाले व्यक्ति द्वारा अच्छे से हाथ व मुंह नही धोने पर पसीना व मैल उत्पन्न होता है और इससे फुंसिया बनती है।
  • यह फुंसिया कान, होंठ और जननांग के आस-पास हो सकती हैं।
  • इस रोग में लसीका ग्रंथि में सूजन भी दिखाई दे सकती है और सिरदर्द, थकान और भूख कम लगना आदि लक्षण देखने को मिलते हैं।
  •  यह संक्रमण कभी-कभी आंखो तक भी फैल जाता है, जिसे हर्पीस कैराटाइटिस कहते है। इसमें रोग में मरीज को आंखो मे दर्द, रिसाव और आँखों में किरकिराहट महसूस होने जैसे लक्षण दिखते हैं।

हर्पिस क्या है इस बारे में और अधिक जानने के लिए यह आर्टिकल पढ़े : हर्पिस क्या है हर्पिस का उपचार

तो ये थी हमारी पोस्ट जनेऊ रोग के लक्षण – Janeu Rog ke Lakshan. आशा करते हैं की आपको पोस्ट पसंद आई होगी. Thanks For Giving Your Valuable Time.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *